Grievance Redressal Form

    Any person, as defined under Section 2(31) of Income Tax Act, 1961, may register a grievance in accordance with Rule 10 of The Information Technology (Intermediary Guidelines and Digital Media Ethics code) Rules, 2021, within a reasonable period of time.

    The grievance is to be addressed to our Grievance Redressal Officer in the manner as specified below:

    Name: Vikas Bahuguna

    Email: [email protected]

    Please fill out all the details of the Grievance Redressal form. Any section left blank or anonymous or fake submissions will not be accepted. You can submit the form as is, or you can download the form and email it directly to our grievance officer.


    For a copy of the Code of Ethics please CLICK HERE

    I hereby declare that all the information furnished above is true, complete and correct to the best of of my knowledge and belief, and that I am competent under the law to file this grievance.

  • गूगल असिस्टेंट

    विज्ञान-तकनीक | गूगल

    कभी गूगल असिस्टेंट से ‘तुम्हारा नाम क्या है गूगल’ पूछकर देखा है?

    अंजलि मिश्रा | 27 जुलाई 2021

    अमजद खान

    समाज | पुण्यतिथि

    अमजद खान: एक ऐसा खलनायक जिसे नायकों से बेहतर होने के लिए आलोचनाएं झेलनी पड़ीं

    सत्याग्रह ब्यूरो | 27 जुलाई 2021

    क्या कारगिल की जंग पाकिस्तान ने सियाचिन में हुई हार का बदला लेने के लिए लड़ी थी?

    समाज | इतिहास

    क्या कारगिल की जंग पाकिस्तान ने सियाचिन में हुई हार का बदला लेने के लिए लड़ी थी?

    अनुराग भारद्वाज | 26 जुलाई 2021

    क्यों हल्की-सी सूजन को भी आपको गंभीरता से लेने की जरूरत है?

    विज्ञान-तकनीक | ज्ञान है तो जहान है

    क्यों हल्की-सी सूजन को भी आपको गंभीरता से लेने की जरूरत है?

    ज्ञान चतुर्वेदी | 25 जुलाई 2021

  • संगीत

    विज्ञान-तकनीक | सिर-पैर के सवाल

    कभी-कभी कोई एक ही गाना हम दिन भर क्यों गुनगुनाते रहते हैं?

    अंजलि मिश्रा | 25 जुलाई 2021

    क्या आप उन जिम कॉर्बेट को जानते हैं जो रेलवे के मुलाजिम थे?

    समाज | इतिहास

    क्या आप उन जिम कॉर्बेट को जानते हैं जो रेलवे के मुलाजिम थे?

    प्रभात | 25 जुलाई 2021

    साहित्य में अतिशय सामाजिकता के आग्रह ने निजता को देशनिकाला-सा दे दिया है

    समाज | कभी-कभार

    साहित्य में अतिशय सामाजिकता के आग्रह ने निजता को देशनिकाला-सा दे दिया है

    अशोक वाजपेयी | 25 जुलाई 2021

    मनोज कुमार

    समाज | सिनेमा

    राष्ट्रवाद के इस दौर में अगर भारत कुमार फिल्मों में सक्रिय होते तो क्या होता?

    अंजलि मिश्रा | 24 जुलाई 2021