विज्ञान-तकनीक | सिर-पैर के सवाल

तापमान बढ़े या तनाव, हमें पसीना क्यों आने लगता है?

सवाल जो या तो आपको पता नहीं, या आप पूछने से झिझकते हैं, या जिन्हें आप पूछने लायक ही नहीं समझते

अंजलि मिश्रा | 30 मई 2021

तमाम डियो और टैल्कम पॉउडर कंपनियां कितने भी दावे करें, वे आपके शरीर पर आने वाले पसीने को नहीं रोक सकतीं. आपने कभी ध्यान दिया हो या नहीं, लेकिन आपका शरीर हर समय पसीना छोड़ रहा होता है. मौसम, खानपान, शारीरिक और मानसिक स्थिति के हिसाब से पसीने की यह मात्रा घटती-बढ़ती रहती है. मसलन, अगर आप कसरत कर रहे हैं या कहीं स्टेज पर बोलने वाले हैं या फिर कुछ मसालेदार खा लिया है तो गर्मी लगना और पसीना आना लाजमी है.

अगर मौसम का पारा चढ़ने के अलावा ऊपर बताई गई परिस्थितियों में भी किसी को पसीना आता है तो यह उसके स्वस्थ होने की निशानी है. सामान्य परिस्थितियों में मेटाबॉलिज्म के दौरान पैदा हुई उष्मा यानी गर्मी को कम करने के लिए शरीर पसीना छोड़ता है. यह प्रक्रिया शरीर में लगातार चलती रहती है इसलिए थोड़ा पसीना हमेशा बना रहता है. लेकिन कसरत करते हुए हमें ज्यादा ऊर्जा की जरूरत होती है इसलिए यह प्रक्रिया तेजी से होती है और पसीना भी ज्यादा आता है. यही बात मसालेदार खाने पर भी लागू होती है.

हमारे शरीर में तकरीबन तीस से चालीस लाख स्वेद ग्रंथियां (पसीना छोड़ने वाली ग्रंथियां) होती हैं. ये त्वचा के नीचे रहने वाली बारीक घुमावदार नलियां होती हैं जो शरीर के तापमान को नियंत्रित करने का जरूरी काम करती हैं. यह जानना दिलचस्प है कि शरीर के अलग-अलग अंगों में पाई जाने वाली स्वेद ग्रंथियां भी अलग-अलग तरह की होती हैं जैसे एपोक्राइन, एक्रेन और सबेशियस.

वर्क आउट के दौरान जिन ग्रंथियों से पसीना आता है वे एपोक्राइन ग्लैंड कही जाती हैं. ये ग्रंथियां बगलों और यौन अंगों के आसपास होती हैं. इन ग्रंथियों से आने वाला पसीना शरीर में एड्रेनलाइन हॉर्मोन रिलीज होने पर बनता है. एपोक्राइन ग्लैंड से निकलने वाले पसीने में थोड़ी मात्रा प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट की भी होती है इसीलिए अक्सर बाजुओं के आसपास कपड़ों पर पसीने के दाग बन जाते हैं. इसमें पैदा होने वाली गंध शरीर में रहने वाले हैल्दी बैक्टीरिया की उपस्थिति के कारण होती है.

शरीर में सबसे ज्यादा पाई जाने वाली स्वेद ग्रंथि, एक्रेन ग्लैंड है. ये हथेलियों, तलवों और माथे पर सबसे ज्यादा होती हैं. एक्रेन ग्लैंड्स से निकलने वाला पसीना साफ और गंधरहित होता है और तापमान नियंत्रित करने में सबसे बड़ी भूमिका निभाता है. ये ग्रंथियां हाइपोथैलेमस द्वारा नियंत्रित होती हैं जो भूख-प्यास और तापमान नियंत्रित करने के अलावा लोगों से आपके व्यवहार को नियंत्रित करने वाले हॉर्मोंस को भी नियंत्रित करता है. यही कारण है कि गुस्सा, तनाव, चिंता या अचंभा होने की स्थिति में भी हमारी हथेलियों पर पसीना आने लगता है.

चेहरे और सिर (स्कैल्प) पर पाई जाने वाली स्वेद ग्रंथियां, सबेशियस ग्लैंड्स कही जाती हैं. इन ग्रंथियों से आने वाला पसीना अपेक्षाकृत तैलीय लेकिन गंधहीन होता है. इन ग्रंथियों का काम चेहरे और बालों को पानी से बचाना और चिकनाहट बनाए रखना होता है. मनुष्य में धीरे-धीरे सबेशियस ग्लैंड्स घटती जा रही हैं क्योंकि आज के समय उनका ज्यादा उपयोग नहीं रह गया है. इसके अलावा शरीर के इन हिस्सों में भी तापमान नियंत्रण का मुख्य काम एक्रेन ग्लैंड्स ही करती हैं.

शरीर में कम या ज्यादा पसीना आना हमेशा चिंताजनक होता है. कम पसीना आने की वजह आमतौर पर डिहाइड्रेशन होती है. इसे खूब पानी पीकर और कसरत कर सामान्य किया जा सकता है. लेकिन ज्यादा पसीना आना अपेक्षाकृत चिंताजनक बात हो जाती है. इसे विज्ञान की भाषा में हाइपरहाइड्रोसिस कहते हैं. यह कई बार मधुमेह, इंफेक्शन, लिम्फैटिक ट्यूमर का लक्षण हो सकता है. इसके अलावा शराब का ज्यादा सेवन भी आपको इसका शिकार बना सकता है. इन दोनों ही समस्याओं से निपटने का पहला उपाय जीवनशैली में सुधार करना हो सकता है

>> सत्याग्रह को ईमेल या व्हाट्सएप पर प्राप्त करें

>> अपनी राय [email protected] पर भेजें

  • आखिर कैसे एक जनजातीय नायक श्रीकृष्ण हमारे परमपिता परमेश्वर बन गए?

    समाज | धर्म

    आखिर कैसे एक जनजातीय नायक श्रीकृष्ण हमारे परमपिता परमेश्वर बन गए?

    सत्याग्रह ब्यूरो | 19 अगस्त 2022

    15 अगस्त पर एक आम नागरिक की डायरी के कुछ पन्ने

    राजनीति | व्यंग्य

    15 अगस्त पर एक आम नागरिक की डायरी के कुछ पन्ने

    अनुराग शुक्ला | 15 अगस्त 2022

    15 अगस्त को ही आजाद हुआ पाकिस्तान अपना स्वतंत्रता दिवस 14 अगस्त को क्यों मनाता है?

    दुनिया | पाकिस्तान

    15 अगस्त को ही आजाद हुआ पाकिस्तान अपना स्वतंत्रता दिवस 14 अगस्त को क्यों मनाता है?

    सत्याग्रह ब्यूरो | 14 अगस्त 2022

    जवाहरलाल नेहरू अगर कुछ रोज़ और जी जाते तो क्या 1964 में ही कश्मीर का मसला हल हो जाता?

    समाज | उस साल की बात है

    जवाहरलाल नेहरू अगर कुछ रोज़ और जी जाते तो क्या 1964 में ही कश्मीर का मसला हल हो जाता?

    अनुराग भारद्वाज | 14 अगस्त 2022