समाज | पुण्यतिथि

‘कोई हमदम न रहा, कोई सहारा न रहा’ जैसे कालजयी गीत के पहले गायक किशोर नहीं, अशोक कुमार थे!

हालांकि किशोर कुमार की वजह से यह गीत लोकप्रिय हुआ और बाद में कई बड़े गायकों ने भी उन्हें ट्रिब्यूट देने के लिए इसे गाया

सत्याग्रह ब्यूरो | 10 दिसंबर 2021

किशोर कुमार का एक बेहद कर्णप्रिय गीत है, ‘कोई हमदम न रहा, कोई सहारा न रहा’ जो आज 50 साल बाद भी टाइमलेस क्लासिक कहलाता है. किशोर कुमार को वैसे भी दर्द में डूबे नगमे गाने में महारत हासिल थी और इस तथ्य को उनका यह गीत अपनी रिलीज के वक्त से लेकर आज के समय तक दोहरा रहा है. यह गीत उनके व मधुबाला के अभिनय से सजी 1961 में आई ‘झुमरू’ फिल्म का है जिसमें न सिर्फ इस गीत का फिल्मांकन उन पर हुआ था बल्कि इसका संगीत भी उन्होंने ही दिया था. लेकिन दिलचस्प बात यह है कि इस गीत को सबसे पहले उनके बड़े भाई अशोक कुमार ने गाया था, ‘झुमरू’ बनने के लगभग 25 साल पहले आई एक फिल्म में.  

वह फिल्म थी ‘जीवन नैया’ (1936) जिसका नाम हिंदी फिल्मों के इतिहास में इसलिए अमिट है क्योंकि यह वो पहली फिल्म है जिसमें बॉम्बे टाकीज वाले हिमांशु रॉय ने अशोक कुमार को बतौर हीरो कास्ट किया था. देविका रानी इसमें उनकी हीरोइन थीं और फिल्म का संगीत उन पारसी महिला सरस्वती देवी ने दिया था जिन्हें जद्दनबाई के बाद हमारी हिंदी फिल्म इंडस्ट्री की दूसरी महिला संगीतकार होने का रुतबा हासिल है.

इस फिल्म में युवा दादा मुनि पर ही फिल्माए गए ‘कोई हमदम न रहा’ को जेएस कश्यप ने लिखा था और अशोक कुमार ने इसे केएल सहगल से मिलती-जुलती आवाज में क्लासिकल अंदाज में गाया था. 25 साल बाद किशोर कुमार ने इस गीत की धुन को पूरी तरह बदल दिया. और इस कदर कर्णप्रिय बना दिया कि सुनने वालों को सिर्फ उनका गाना याद है, अशोक कुमार का नहीं! बाद के वर्षों में लता मंगेशकर ने भी किशोर कुमार को ट्रिब्यूट देने के लिए इस गीत को गाया और किशोर के सुपुत्र अमित कुमार ने भी. लेकिन सभी ने किशोर कुमार के वर्जन को ही नई आवाज दी.

यह भी कहा जाता है कि इस गीत के अस्तित्व में आने के वक्त किशोर कुमार सिर्फ पांच वर्ष के थे लेकिन यह गाना उनके जेहन में ऐसा बसा कि जब उन्होंने फिल्मों में अभिनय करना और गीत गाना शुरू किया तो यह गाना अशोक कुमार से जबरदस्ती मांग लिया. यह कहकर कि मैं तुमसे तो इसे बेहतर ही गाऊंगा!

>> सत्याग्रह को ईमेल या व्हाट्सएप पर सब्सक्राइब करें

 

>> अपनी राय हमें [email protected] पर भेजें

 

  • हम अंतिम दिनों वाले गांधी को याद करने से क्यों डरते हैं?

    समाज | महात्मा गांधी

    हम अंतिम दिनों वाले गांधी को याद करने से क्यों डरते हैं?

    अपूर्वानंद | 05 जुलाई 2022

    आज हिंसा लगभग एक वैध और लोकप्रिय विधा बन गयी है जिसका मुक़ाबला केवल साहित्य कर सकता है

    समाज | कभी-कभार

    आज हिंसा लगभग एक वैध और लोकप्रिय विधा बन गयी है जिसका मुक़ाबला केवल साहित्य कर सकता है

    अशोक वाजपेयी | 26 जून 2022

    माइकल जैक्सन

    समाज | पुण्यतिथि

    गुलजार को ही नहीं, माइकल जैक्सन को भी चांद बेहद पसंद था!

    शुभम उपाध्याय | 25 जून 2022

    आज 48 साल की हो रहीं करिश्मा कपूर की पहली फिल्म ‘प्रेम कैदी’ देखना कैसा अनुभव है

    समाज | पहली फिल्म

    आज 48 साल की हो रहीं करिश्मा कपूर की पहली फिल्म ‘प्रेम कैदी’ देखना कैसा अनुभव है

    अंजलि मिश्रा | 25 जून 2022

  • शिखर से लेकर सबसे निचले स्तर तक अब हर राजनेता साहित्यकार और कलाकार है

    समाज | कभी-कभार

    शिखर से लेकर सबसे निचले स्तर तक अब हर राजनेता साहित्यकार और कलाकार है

    अशोक वाजपेयी | 19 जून 2022

    साहित्य कभी-कभार राजनैतिक भी हो सकता है पर वह हमेशा नैतिक रहता है

    समाज | कभी-कभार

    साहित्य कभी-कभार राजनैतिक भी हो सकता है पर वह हमेशा नैतिक रहता है

    अशोक वाजपेयी | 12 जून 2022

    क्या इस दौर की अकारण, अमानवीय, अभद्र और गैरकानूनी हिंसा का स्रोत कहीं हमारे साहित्य में है?

    समाज | कभी-कभार

    क्या इस दौर की अकारण, अमानवीय, अभद्र और गैरकानूनी हिंसा का स्रोत कहीं हमारे साहित्य में है?

    अशोक वाजपेयी | 05 जून 2022

    इतिहास के अपने मिथक होते हैं और मिथकों का भी इतिहास होता है

    समाज | कभी-कभार

    इतिहास के अपने मिथक होते हैं और मिथकों का भी इतिहास होता है

    अशोक वाजपेयी | 29 मई 2022