समाज | सिर-पैर के सवाल

राजनीतिक विचारधारा का लेफ्ट और राइट में बंटवारा कैसे हुआ?

सवाल जो या तो आपको पता नहीं, या आप पूछने से झिझकते हैं, या जिन्हें आप पूछने लायक ही नहीं समझते

अंजलि मिश्रा | 16 जनवरी 2022

कुछ साल पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद की बैठक व्यवस्था में बदलाव का एक सुझाव दिया था और जो मान लिया गया. सुझाव था कि प्रश्नकाल के दौरान सत्तापक्ष का जो भी नेता जवाब दे रहा होगा वह स्पीकर के दाईं ओर यानी ट्रेजरी बेंच पर बैठने के बजाय बीच में बैठेगा और जवाब देगा. हालांकि प्रधानमंत्री से जुड़ी इस पुरानी खबर का राजनीतिक स्पेक्ट्रम के लेफ्ट विंग – राइट विंग में बंटे होने से कोई सीधा संबंध नहीं है. बस इस बहाने हमें इतनी जानकारी मिल जाती है कि भारतीय संसद में सत्तापक्ष सदन अध्यक्ष के दाईं और विपक्ष बाईं ओर बैठता है. यह व्यवस्था बहुत हद तक आधुनिक लोकतंत्र की शुरूआत करने वाली उस घटना से प्रेरित है जिसे हम फ्रांसीसी क्रांति के नाम से जानते हैं.

1779 में फ्रांस की नेशनल असेंबली दो धड़ों में बंट गई थी, जिनमें से एक लोकतांत्रिक व्यवस्था की मांग कर रहा था और दूसरा राजशाही के समर्थन में था. यह मांग जब आंदोलन का रूप लेने लगी तो तत्कालीन सम्राट लुई-16 ने नेशनल असेंबली की एक बैठक बुलाई जिसमें समाज के हर तबके के प्रतिनिधि शामिल हुए. इस बैठक में सम्राट के समर्थकों को सम्राट के दाईं और क्रांति के समर्थकों को बाईं ओर बैठने को कहा गया था. राजनीति में विचारधारा के आधार पर पहले औपचारिक बंटवारे की शुरुआत इसी बैठक व्यवस्था से मानी जाती है. तब राजशाही समर्थकों को दक्षिणपंथी (राइटिस्ट या राइट विंग) और विरोधियों के वामपंथी (लेफ्टिस्ट या लेफ्ट विंग) कहा गया था.

फ्रेंच नेशनल असेंबली में दाईं तरफ बैठने वाले लोग कुलीन, कारोबारी और धार्मिक तबके से थे, जबकि बाईं तरफ बैठने वाले ज्यादातर लोग आम नागरिक थे. यहां सम्राट के दाईं ओर बैठे यानी दक्षिण पंथ के लोग राजशाही के साथ-साथ स्थापित सामाजिक-आर्थिक परंपराओं के हिमायती थे. कुल मिलाकर ये अपनी संपत्ति और रसूख को कायम रखना चाहते थे, वहीं सम्राट के बाईं तरफ जुटे लोग यानी वाम पंथी सामाजिक समानता और नागरिक अधिकारों की मांग कर रहे थे. यह भी एक वजह है कि दक्षिणपंथियों को पूंजीवादी और वामपंथियों को समाजवादी माना जाता है. दक्षिणपंथी चूंकि बदलावों के विरोधी थे सो आगे चलकर ये कंजर्वेटिव और बदलाव के समर्थक वामपंथी प्रगतिवादी कहलाए.

समय के साथ यह राजनीतिक धारणा फ्रांस से निकलकर दुनिया के और देशों में भी पहुंची, हालांकि हर देश में इसका स्वरूप अलग-अलग है. मोटे तौर पर यह वर्गीकरण इसी बात पर हुआ कि कोई संगठन या राजनैतिक दल पूंजीवादी व्यवस्था में बदलावों का समर्थन किस हद तक करता है. वहीं यूरोप में कार्ल मार्क्स और फ्रेडरिक एंजेल्स जैसे लेखकों ने वामपंथी विचारधारा के सिद्धांतों को और स्पष्ट किया. इन दोनों ने 1848 में कम्यूनिस्ट मैनिफेस्टो लिखा था, जिसमें पूंजीवाद की खामियां बताते हुए पूरी दुनिया के मजदूरों से उसके खिलाफ एकजुट होने का आह्वान किया गया था. इस तरह लेफ्टिस्ट फिर कम्यूनिस्ट भी कहलाने लगे.

आज लेफ्ट को उदारवाद, समूहवाद, धर्मनिरपेक्षता और राइट को अथॉरिटी, व्यक्तिवाद और धार्मिक कट्टरता से जोड़कर देखा जाता है. हालांकि आखिर में यह बहस सामाजिक बराबरी और गैर-बराबरी की ही है.

>> सत्याग्रह को ईमेल या व्हाट्सएप पर सब्सक्राइब करें

 

>> अपनी राय हमें [email protected] पर भेजें

 

  • आखिर कैसे एक जनजातीय नायक श्रीकृष्ण हमारे परमपिता परमेश्वर बन गए?

    समाज | धर्म

    आखिर कैसे एक जनजातीय नायक श्रीकृष्ण हमारे परमपिता परमेश्वर बन गए?

    सत्याग्रह ब्यूरो | 19 अगस्त 2022

    15 अगस्त पर एक आम नागरिक की डायरी के कुछ पन्ने

    राजनीति | व्यंग्य

    15 अगस्त पर एक आम नागरिक की डायरी के कुछ पन्ने

    अनुराग शुक्ला | 15 अगस्त 2022

    15 अगस्त को ही आजाद हुआ पाकिस्तान अपना स्वतंत्रता दिवस 14 अगस्त को क्यों मनाता है?

    दुनिया | पाकिस्तान

    15 अगस्त को ही आजाद हुआ पाकिस्तान अपना स्वतंत्रता दिवस 14 अगस्त को क्यों मनाता है?

    सत्याग्रह ब्यूरो | 14 अगस्त 2022

    जवाहरलाल नेहरू अगर कुछ रोज़ और जी जाते तो क्या 1964 में ही कश्मीर का मसला हल हो जाता?

    समाज | उस साल की बात है

    जवाहरलाल नेहरू अगर कुछ रोज़ और जी जाते तो क्या 1964 में ही कश्मीर का मसला हल हो जाता?

    अनुराग भारद्वाज | 14 अगस्त 2022