समाज | सिर-पैर के सवाल

महीने भर बाल न कटवाने के बहाने के अलावा ‘नो शेव नवंबर’ क्या है?

सवाल जो या तो आपको पता नहीं, या आप पूछने से झिझकते हैं, या जिन्हें आप पूछने लायक ही नहीं समझते

अंजलि मिश्रा | 09 नवंबर 2021

हर साल नवंबर की शुरुआत होते ही ‘नो शेव नवंबर’ या ‘मोवेंबर’ शब्द देखने-सुनने-पढ़ने में आने लगते हैं. पहला हफ्ता बीतते-बीतते इस हैशटैग के साथ सोशल मीडिया पर तस्वीरें दिखाई देना शुरू हो जाती हैं. भले ही यहां पर बात शेविंग न करने की की जा रही हो लेकिन ऐसा नहीं है कि यह सिर्फ शेव न बनाने तक सीमित है. कटिंग, वैक्सिंग, थ्रेडिंग यानी शरीर के बालों को हटाने के लिए किया जाना वाला हर इंतजाम नवंबर में रोक दिया जाता है. ऐसा सिर्फ किसी एक शहर या देश में नहीं, बल्कि दुनियाभर में किया जाता है.

इस सबके बावजूद नो शेव नवंबर मना रहे बहुत से लोग जहां इसे मनाए जाने के कारणों से अंजान है वहीं कुछ आलसी लोगों के लिए यह कुछ दिन के लिए बालों और दाढ़ी की देखभाल से आराम पाने के मौका बस है. चलिए, इस बार सिर-पैर के सवाल में जानते हैं कि आखिर नवंबर में ऐसा क्या है जो हर साल इसी महीने में लोगों का ‘बाल’ प्रेम जाग उठता है. इसके साथ ही नो शेव नवंबर के साथ सुनाई देने शब्द ‘मोवेंबर’ का मतलब क्या है.

‘नो शेव नवंबर’ असल में कैंसर खासकर प्रोस्टेट कैंसर के प्रति जागरूकता के लिए शुरू किया गया अभियान है. इस अभियान का समर्थन करने वाले लोग नवंबर के महीने में दाढ़ी या बालों को कटवाना बंद कर देते हैं. बालों के रखरखाव में किए जाने वाले खर्च के बराबर राशि इस अभियान में दान दे दी जाती है. ‘नो शेव नवंबर’ अभियान की शुरूआत एक अमेरिकी गैर-लाभकारी संगठन ‘मैथ्यू हिल फाउंडेशन’ ने साल 2009 में की थी.

मैथ्यू हिल फाउंडेशन इन पैसों को उन संस्थाओं तक पहुंचाता है जो कैंसर से बचाव, इलाज या शोध और शिक्षा के लिए काम कर रही हैं. यहां पर इसकी शुरुआत की कहानी जान लेना भी जरूरी है. नवंबर 2007 में अमेरिका के शिकागो शहर में रहने वाले मैथ्यू हिल की कैंसर से लड़ते हुए मौत हो गई. इसके बाद उनके आठ बच्चों ने अपने पिता को सम्मान देने और उन्हीं की तरह कैंसर से लड़ रहे लोगों की मदद के लिए कुछ करने की सोची और नो शेव नवंबर कैंपेन की शुरुआत की. शुरुआत के दो साल बाद सोशल मीडिया के जरिए इसे दुनियाभर में पहुंचाने की कोशिश की गई. इसी का नतीजा अब यह है कि लोग वजह जानें या न जानें नो शेव नवंबर मनाते जरूर हैं.

अब बात करते हैं ‘मोवेंबर’ की. मोवेंबर दो शब्दों मुश्टैश (मूंछ) और नवंबर को मिलाकर बनाया गया शब्द है. ‘नो शेव नवंबर’ की ही तरह यह भी एक जागरूकता अभियान है. नो शेव नवंबर जहां सिर्फ कैंसर जागरूकता तक सीमित है वहीं मोवेंबर इसके साथ-साथ पुरुषों को उनके स्वास्थ्य और जीवनशैली के प्रति सचेत करने का काम करता है. 2004 में शुरू हुए इस अभियान में पुरुष नवंबर में मूंछें उगाकर इसे अपना समर्थन देते हैं.

>> सत्याग्रह को ईमेल या व्हाट्सएप पर सब्सक्राइब करें

 

>> अपनी राय हमें [email protected] पर भेजें

 

  • हम अंतिम दिनों वाले गांधी को याद करने से क्यों डरते हैं?

    समाज | महात्मा गांधी

    हम अंतिम दिनों वाले गांधी को याद करने से क्यों डरते हैं?

    अपूर्वानंद | 05 जुलाई 2022

    आज हिंसा लगभग एक वैध और लोकप्रिय विधा बन गयी है जिसका मुक़ाबला केवल साहित्य कर सकता है

    समाज | कभी-कभार

    आज हिंसा लगभग एक वैध और लोकप्रिय विधा बन गयी है जिसका मुक़ाबला केवल साहित्य कर सकता है

    अशोक वाजपेयी | 26 जून 2022

    माइकल जैक्सन

    समाज | पुण्यतिथि

    गुलजार को ही नहीं, माइकल जैक्सन को भी चांद बेहद पसंद था!

    शुभम उपाध्याय | 25 जून 2022

    आज 48 साल की हो रहीं करिश्मा कपूर की पहली फिल्म ‘प्रेम कैदी’ देखना कैसा अनुभव है

    समाज | पहली फिल्म

    आज 48 साल की हो रहीं करिश्मा कपूर की पहली फिल्म ‘प्रेम कैदी’ देखना कैसा अनुभव है

    अंजलि मिश्रा | 25 जून 2022

  • शिखर से लेकर सबसे निचले स्तर तक अब हर राजनेता साहित्यकार और कलाकार है

    समाज | कभी-कभार

    शिखर से लेकर सबसे निचले स्तर तक अब हर राजनेता साहित्यकार और कलाकार है

    अशोक वाजपेयी | 19 जून 2022

    साहित्य कभी-कभार राजनैतिक भी हो सकता है पर वह हमेशा नैतिक रहता है

    समाज | कभी-कभार

    साहित्य कभी-कभार राजनैतिक भी हो सकता है पर वह हमेशा नैतिक रहता है

    अशोक वाजपेयी | 12 जून 2022

    क्या इस दौर की अकारण, अमानवीय, अभद्र और गैरकानूनी हिंसा का स्रोत कहीं हमारे साहित्य में है?

    समाज | कभी-कभार

    क्या इस दौर की अकारण, अमानवीय, अभद्र और गैरकानूनी हिंसा का स्रोत कहीं हमारे साहित्य में है?

    अशोक वाजपेयी | 05 जून 2022

    इतिहास के अपने मिथक होते हैं और मिथकों का भी इतिहास होता है

    समाज | कभी-कभार

    इतिहास के अपने मिथक होते हैं और मिथकों का भी इतिहास होता है

    अशोक वाजपेयी | 29 मई 2022