समाज | जन्मदिन

रजनीकांत न होते तो हमारे पास खुश होने की एक वजह कम होती

एक तरफ उन्हें भगवान की तरह पूजा जाता है तो दूसरी तरफ उन पर दसियों रोज के हिसाब से चुटकले भी बनाये जाते हैं. पर मजे के लिए, मजाक के लिए नहीं

अंजलि मिश्रा | 12 दिसंबर 2021

सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर रजनीकांत का एक जोक चलता है. रजनीकांत ने एक बार समय से रेस लगाई और नतीजा यह हुआ कि समय अभी तक भाग रहा है. रेस लगाने वाला यह चुटकुला कुछ हद तक सही भी है. वक़्त से रेस लगाकर ही कोई इतना आगे निकल सकता है. बोझ उठाया, बढ़ई का काम किया, बसों में टिकट काटे फिर एक दिन सिल्वर स्क्रीन की शान बन गए. पर्दे के इस पार एक तरफ जहां उन्हें भगवान की तरह पूजा जाता है तो दूसरी तरफ उन पर जोक्स भी बनाये जाते हैं. जोक्स बनते तो हैं पर मजे के लिए, मजाक के लिए नहीं. यह उनके चाहने वालों का प्यार है, सम्मान है. जितने अनूठे रजनीकांत हैं, उतने ही उनके मुरीद. उतना ही अनूठा उनका प्यार दिखाने का तरीका.

70 के दशक में, जब तकनीक इतनी उन्नत नहीं थी, फिल्म की जान उसकी स्क्रिप्ट्स को ही माना जाता था (कोई दो राय नहीं फिल्म की जान अब भी स्क्रिप्ट ही होती है). टॉलीवुड तब आज जैसा विशालकाय न होकर क्षेत्रीय सिनेमा ही था. इसके सबसे बड़े नायक एमजी रामचंद्रन राजनीति की ओर रुख कर रहे थे. इसी दशक में वे देश के किसी प्रदेश के पहले ऐसे मुख्यमंत्री बने जो पहले फिल्म अभिनेता था. ऐसे में रजनीकांत अपने चिर-परिचित अंदाज में चश्मा घुमाते हुए आते हैं और कहते हैं ‘एन वाझी, थानी वाझी’ (मेरा रास्ता मेरा खुद का है). उनसे पहले तमिल सिनेमा ने अपने नायक का ऐसा अंदाज देखा नहीं था. इसी दशक में रजनीकांत से थोड़ा पहले देश के हिंदी सिनेमा को भी जंजीर और शोले के जरिये अलग तरह की फिल्में और अमिताभ बच्चन जैसा अदाबाज अदाकार मिल चुका था.

मशहूर तमिल फिल्मकार के बालाचंदर की फिल्म अपूर्व रागानल से 1975 में अपने फिल्म करियर की शुरुआत करने वाले रजनीकांत ने शुरुआती कुछ फिल्मों के बाद से कबाली (2016) तक जो किया दर्शकों के लिए किया. अपने दर्शकों के प्रति इसी समर्पण ने उन्हें फिल्मी पर्दे से उठाकर सही मायनों में लोगों का नायक बना दिया. फिर इस नायक ने जो किया वह लोगों का अपना हो गया. रजनीकांत के अपने दर्शकों के प्रति समर्पण से निकली यह स्वीकृति ही कहीं न कहीं उन पर इतने जोक्स बनने और उनके इतना अधिक लोकप्रिय होने की वजह भी है.

रजनीकांत तमिल फिल्म स्टार हैं. एक आम उत्तर भारतीय के लिए तमिल, तेलगू, कन्नड, मलयालम सब एक ही हैं. उसके लिए साउथ बस साउथ है. रजनीकांत और उन पर पर बनने वाले जोक्स एक लिहाज से उत्तर और दक्षिण को एक करने का काम भी करते हैं. उत्तर भारतीय रजनीकांत की फिल्मों को उतने ही मजे से देखते हैं और उन पर बने चुटकुलों का आनंद इस तरह से मनाते हैं कि आज तक किसी तमिल को उसके थलाइवा पर बने जोक्स के लिए शिकायत करते नहीं देखा गया. दोनों छोरों के भारतीयों ने रजनीकांत के लिए मानो अपने सभी तर्क और शर्तें ताक पर रख दी हैं.

मोबाइल स्क्रीन पर हर पल एक के हिसाब से आने वाले रजनीकांत के जोक्स उनके सिनेमाई कारनामों का ही विस्तार हैं. बिलकुल उतने ही अविश्वसनीय और लोकप्रिय इतने कि एंड्रॉयड और आईफोन के न जाने कितने एप भी इनके लिए बनाए जा चुके हैं. इन्हें हॉलीवुड की हस्ती चक नॉरिस पर बने चुटकलों का भारतीय संस्करण भी कहा जाता है. चक नॉरिस हॉलीवुड में अपनी मार्शल आर्ट्स और असंभव से लगने वाले कारनामों के लिए मशहूर हैं. हिन्दुस्तान में यह कारनामा रजनी के नाम दर्ज है. हां, रजनी जहां संघर्षों के अंधेरे से निकलकर चमक बिखेरते हैं, वहीं चक नॉरिस अमेरिकी वायुसेना से रिटायरमेंट लेकर. ऑडियंस का भी अंतर है. वैसे रजनीकांत और चक नॉरिस में एक साम्य यह भी है कि दोनों के कारनामे पब्लिक बिना पलकें झपकाए देखती है. फिर बेशुमार तालियां पीटती है.

रजनीकांत की महिमा का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि ‘अन्ना रास्कला’ और ‘माइंड इट’ जैसे डायलॉग्स उन्होंने कभी कहे ही नहीं, पर उनके चुटकुलों और उनसे जुड़ जाने के चलते इतने मकबूल हो गए. ये डायलॉग्स शाहरुख़ की ओम शांति ओम के क्विक-गन मुरुगन किरदार से आये जो उस फिल्म में प्रतीकात्मक रजनीकांत था. आज ये जिस तरह से मशहूर हैं यही कहा जा सकता हैं कि जिसको रजनीकांत छू भर जाएं, वही सोना.

अमिताभ बच्चन देश के सबसे बड़े सुपर स्टार थे, 79 साल की उम्र में आज भी हैं. उनका हेयर स्टाइल मकबूल हुआ. हएं कहने का अंदाज सैकड़ों ने अपनाया. कमल हसन सी मासूमियत भी चाही और सराही गयी. राजेश खन्ना, देवानंद के पीछे महिलाएं जान छिड़कती थीं. इसके बाद तीनों खानों ने आकर देश को अपना बना लिया. मगर रजनी के मामले में कुछ नया ही हुआ. एक क्षेत्रीय भाषा का फिल्म अभिनेता अचानक ही ऐसा हो गया कि एक अलग ही तरीके से सब तक पहुंच गया. सबके खुश होने और खुशियां बांटने की वजह बन गया.

>> सत्याग्रह को ईमेल या व्हाट्सएप पर सब्सक्राइब करें

 

>> अपनी राय हमें [email protected] पर भेजें

 

  • प्रेम के मामले में इस जनजाति जितना परिपक्व होने में हमें एक सदी और लग सकती है

    समाज | विशेष रिपोर्ट

    प्रेम के मामले में इस जनजाति जितना परिपक्व होने में हमें एक सदी और लग सकती है

    पुलकित भारद्वाज | 17 जुलाई 2022

    संसद भवन

    कानून | भाषा

    हमारे सबसे नये और जरूरी कानूनों को भी हिंदी में समझ पाना इतना मुश्किल क्यों है?

    विकास बहुगुणा | 16 जुलाई 2022

    कैसे विवादों से घिरे रहने वाले आधार, जियो और व्हाट्सएप निचले तबके के लिए किसी नेमत की तरह हैं

    विज्ञान-तकनीक | विशेष रिपोर्ट

    कैसे विवादों से घिरे रहने वाले आधार, जियो और व्हाट्सएप निचले तबके के लिए किसी नेमत की तरह हैं

    अंजलि मिश्रा | 13 जुलाई 2022

    खुरी रेगिस्तान, राजस्थान

    विज्ञान-तकनीक | पर्यावरण

    हमारे पास एक ही रेगिस्तान है, हम उसे सहेज लें या बर्बाद कर दें

    अश्वनी कबीर | 11 जुलाई 2022

  • हम अंतिम दिनों वाले गांधी को याद करने से क्यों डरते हैं?

    समाज | महात्मा गांधी

    हम अंतिम दिनों वाले गांधी को याद करने से क्यों डरते हैं?

    अपूर्वानंद | 05 जुलाई 2022

    कठपुतली

    समाज | विशेष रिपोर्ट

    इन लोक कलाकारों को बचाए बिना देश की संस्कृति को बचाने की बात भी कैसे की जा सकती है!

    अश्वनी कबीर | 02 जुलाई 2022

    फ़ौज़िया भट्ट और बुशरा मुहम्मद

    समाज | जम्मू कश्मीर

    कैसे कश्मीर में कलाकारों की एक नयी पौध सारी मुश्किलों के बीच अपनी जड़ें जमाने का काम कर रही है?

    सुहैल ए शाह | 29 जून 2022

    आज हिंसा लगभग एक वैध और लोकप्रिय विधा बन गयी है जिसका मुक़ाबला केवल साहित्य कर सकता है

    समाज | कभी-कभार

    आज हिंसा लगभग एक वैध और लोकप्रिय विधा बन गयी है जिसका मुक़ाबला केवल साहित्य कर सकता है

    अशोक वाजपेयी | 26 जून 2022