समाज | सिर-पैर के सवाल

सुहाना कितना भी हो, सफर अगर लंबा है तो हमें नींद क्यों आने लगती है?

सवाल जो या तो आपको पता नहीं, या आप पूछने से झिझकते हैं, या जिन्हें आप पूछने लायक ही नहीं समझते

अंजलि मिश्रा | 30 जनवरी 2022

आपको कभी न कभी किसी ने यह सलाह जरूर दी होगी कि ड्राइवर की बगल की सीट पर बैठकर सोना नहीं चाहिए. किसी के बगल में बैठकर उबासियां लेने या सोने का क्या असर होता है, यह हम आपको इसी स्तंभ के एक आलेख में बता चुके हैं. लेकिन नींद से जुड़ा एक नया सवाल इस बार यह है कि आखिर कार, ट्रेन या विमान यानी किसी भी तरह से यात्रा करते हुए, कुछ समय बाद हमें नींद क्यों आने लगती है?

किसी वाहन या ट्रेन में बैठते ही नींद आने की पहली वजह ‘स्लीप डेब्ट’ बताई जाती है. अक्सर ऐसा होता है कि किसी सफर पर निकलने के लिए लोगों को जल्दी उठना पड़ता है, तो कई बार कहीं जाने की उत्सुकता या चिंता में भी पूरी और अच्छी नींद नहीं हो पाती. इस अधूरी नींद या स्लीप डेब्ट की भरपाई लोग सफर में सोते हुए करते हैं.

सफर में नींद आने की दूसरी वजह बोरियत को बताया जाता है. इस दौरान आमतौर पर आस-पास के गुजरते नजारे को देखने के अलावा यात्रियों के पास करने को कुछ खास नहीं होता इसलिए बोरियत होना लाजिम-सी बात है. इसके अलावा वाहन में बैठे हुए अपने आप को सुरक्षित महसूस करना और लंबे समय तक ही तरह के वातावरण में रहना, सोने की तैयारी किए जाने सरीखा एहसास दिलाता है. यानी ऐसे में दिमाग ठीक वैसा ही महसूस करता है जैसे बिस्तर पर लेटकर काफी देर तक छत को ताकने के बाद कर रहा होता है. कई बार लंबे सफर में ड्राइवर को भी नींद आने लगती है. इसे मनोविज्ञान की भाषा में ‘हाइवे हिप्नोसिस’ कहा जाता है. इससे बचने का सबसे बढ़िया उपाय किसी फिजिकल एक्टिविटी में लग जाना या दिलचस्प बातचीत करना है और ड्राइवर को तो केवल चाय या कॉफी ही इससे बचा सकती है.

चलते सफर में नींद आने की तीसरी और सबसे बड़ी वजह होती है, व्हाइट नॉइज. व्हाइट नॉइज, वह शोर होता है जो इंजन की आवाज, हवा गुजरने की सरसराहट और कभी-कभार गाड़ी में बजाए जाने वाले संगीत के आपस में मिलजुल जाने के कारण पैदा होता है. यह शोर और गतिवान वाहन के लगातार हिलते रहने से दिमाग कुछ आराम की अवस्था में आ जाता है. यह कुछ हद तक वैसा ही है, जैसे कोई छोटा बच्चा गोद में लेकर झुलाने और कुछ भी गुनगुना देने से शांत हो जाता है और सो जाता है. लेकिन ऐसा क्यों होता है, इस बात का पता अब तक नहीं चल सका है.

लंबे सफर में हर किसी को नींद आती है और यह बिल्कुल सामान्य बात है लेकिन अगर कोई 10-15 मिनट लंबी कार राइड में भी सो जाता है तो इसका मतलब है कि वह सोपाइट सिंड्रोम से ग्रस्त है. सोपाइट सिंड्रोम एक तरह की मोशन सिकनेस ही है, जहां व्यक्ति घबराहट या उबकाई महसूस करने के बजाय सोने लगता है.

>> सत्याग्रह को ईमेल या व्हाट्सएप पर सब्सक्राइब करें

 

>> अपनी राय हमें [email protected] पर भेजें

 

  • प्रेम के मामले में इस जनजाति जितना परिपक्व होने में हमें एक सदी और लग सकती है

    समाज | विशेष रिपोर्ट

    प्रेम के मामले में इस जनजाति जितना परिपक्व होने में हमें एक सदी और लग सकती है

    पुलकित भारद्वाज | 17 जुलाई 2022

    संसद भवन

    कानून | भाषा

    हमारे सबसे नये और जरूरी कानूनों को भी हिंदी में समझ पाना इतना मुश्किल क्यों है?

    विकास बहुगुणा | 16 जुलाई 2022

    कैसे विवादों से घिरे रहने वाले आधार, जियो और व्हाट्सएप निचले तबके के लिए किसी नेमत की तरह हैं

    विज्ञान-तकनीक | विशेष रिपोर्ट

    कैसे विवादों से घिरे रहने वाले आधार, जियो और व्हाट्सएप निचले तबके के लिए किसी नेमत की तरह हैं

    अंजलि मिश्रा | 13 जुलाई 2022

    खुरी रेगिस्तान, राजस्थान

    विज्ञान-तकनीक | पर्यावरण

    हमारे पास एक ही रेगिस्तान है, हम उसे सहेज लें या बर्बाद कर दें

    अश्वनी कबीर | 11 जुलाई 2022

  • हम अंतिम दिनों वाले गांधी को याद करने से क्यों डरते हैं?

    समाज | महात्मा गांधी

    हम अंतिम दिनों वाले गांधी को याद करने से क्यों डरते हैं?

    अपूर्वानंद | 05 जुलाई 2022

    कठपुतली

    समाज | विशेष रिपोर्ट

    इन लोक कलाकारों को बचाए बिना देश की संस्कृति को बचाने की बात भी कैसे की जा सकती है!

    अश्वनी कबीर | 02 जुलाई 2022

    फ़ौज़िया भट्ट और बुशरा मुहम्मद

    समाज | जम्मू कश्मीर

    कैसे कश्मीर में कलाकारों की एक नयी पौध सारी मुश्किलों के बीच अपनी जड़ें जमाने का काम कर रही है?

    सुहैल ए शाह | 29 जून 2022

    आज हिंसा लगभग एक वैध और लोकप्रिय विधा बन गयी है जिसका मुक़ाबला केवल साहित्य कर सकता है

    समाज | कभी-कभार

    आज हिंसा लगभग एक वैध और लोकप्रिय विधा बन गयी है जिसका मुक़ाबला केवल साहित्य कर सकता है

    अशोक वाजपेयी | 26 जून 2022