विज्ञान-तकनीक | सिर-पैर के सवाल

क्या एसी की टेम्प्रेचर सेटिंग 18 डिग्री पर रखने से कमरा जल्दी ठंडा हो जाता है?

सवाल जो या तो आपको पता नहीं, या आप पूछने से झिझकते हैं, या जिन्हें आप पूछने लायक ही नहीं समझते

अंजलि मिश्रा | 11 मई 2022

आजकल किसी से पूछो कि आप कैसे हैं तो जवाब मिलता है – कूल. हर कोई कूल दिखना चाहता है और रहना भी. कूल दिखने के लिए बहुत तामझाम करने पड़ सकते हैं लेकिन रहने के लिए बस कमरे के कोने में एक एयर कंडीशनर लगाना ही काफी है. हालांकि जल्दी से जल्दी कूल होने के चक्कर में लोग अक्सर एसी पर ज्यादती करते नजर आते हैं. ज्यादातर लोग बाहर से आते ही तुरत-फुरत एसी को कम से कम टेम्प्रेचर, जैसे 18 डिग्री पर सेट कर देते हैं. उन्हें लगता है ऐसा करने से एसी फटाफट कमरे को ठंडा कर देगा. लेकिन क्या ऐसा सच में होता है, चलिए जानते हैं.

कमरे को जल्दी ठंडा करने का यह तरीका कारगर है या नहीं यह समझने के लिए पहले जानते हैं एयर कंडीशनर काम कैसे करता है. एसी का काम होता है, बाहर की तुलना में अंदर का तापमान सुविधाजनक रखना. यह सुविधाजनक तापमान – मान लीजिए 25 डिग्री सेल्सियस – हम अपने से निर्धारित करते हैं. इसके बाद हमारा एयर कंडीशनर कमरे को 25 डिग्री तक ठंडा कर देता है. एक बार जब कमरा इस स्थिति में आ जाता है तो एसी का कंप्रेसर चलना बंद हो जाता है. इसे सरल भाषा में समझें तो एसी ठंडा करना बंद कर देता है और सिर्फ उसका पंखा चलता रहता है. जब तापमान थोड़ा सा बढ़ जाता है तो एसी 25 डिग्री के टेम्प्रेचर को मेंटेन करने के लिए फिर से कूलिंग करने लग जाता है.

अगर किसी के लिए 25 डिग्री टेम्प्रेचर सही है तो इस तक पहुंचने में एसी हर हालत में उतना ही समय लेगा, फिर चाहे उसकी सेटिंग 18 डिग्री पर रखी जाए या 25 डिग्री पर. यह तापमान नियत करने की सेटिंग होती है तापमान कम करने की क्षमता बढ़ाने या घटाने की नहीं. अगर इसे 18 डिग्री पर रखा गया है तो आपके लिए सही तापमान – 25 डिग्री – पर पहुंचने के बाद भी एसी कमरे को तब तक ठंडा करता रहेगा जब तक इसका तापमान 18 डिग्री न हो जाए.

40 डिग्री के तापमान वाले मौसम में कमरे का तापमान 18 डिग्री करने के लिए एसी को लगातार काफी देर तक काम करते रहना पड़ता है. इससे न केवल एयर कंडीशनर का जीवन कम होता है बल्कि बिजली की खपत भी ज्यादा होती है. इसके अलावा ऐसा करने से एसी में रहने वाले व्यक्ति के स्वास्थ्य पर भी बुरा असर पड़ सकता है. चूंकि एसी कमरे में मौजूद नमी को सोखता है इसलिए इसका ज्यादा चलना आपकी त्वचा के लिए ठीक नहीं. ऊपर से यह आपके शरीर के तापमान को नियंत्रित रखने वाले प्राकृतिक तंत्र को भी गलत तरीके से प्रभावित कर सकता है.

स्वास्थ्य विज्ञान के मुताबिक हमारा शरीर 27 डिग्री सेल्सियस के आसपास सबसे ज्यादा सहजता से काम करता है. इसलिए ज्यादातर जानकार एयर कंडीशनर को 25 से 28 डिग्री की टेम्प्रेचर सेंटिंग पर रखने की सलाह देते हैं. ऐसा करना न सिर्फ एसी और आपके स्वास्थ्य को सही रखता है बल्कि बिजली का बिल भी घटाता है.

>> सत्याग्रह को ईमेल या व्हाट्सएप पर सब्सक्राइब करें

 

>> अपनी राय हमें [email protected] पर भेजें

 

  • हिंदुत्व बहुसंख्यकतावाद, घृणा और विक्टिमहुड पर आधारित राजनीतिक अवधारणा है

    समाज | कभी-कभार

    हिंदुत्व बहुसंख्यकतावाद, घृणा और विक्टिमहुड पर आधारित राजनीतिक अवधारणा है

    अशोक वाजपेयी | 22 मई 2022

    मनुष्य की क्रूरता पाशविक क्रूरता से कहीं अधिक व्यापक और गहरी है

    समाज | कभी-कभार

    मनुष्य की क्रूरता पाशविक क्रूरता से कहीं अधिक व्यापक और गहरी है

    अशोक वाजपेयी | 15 मई 2022

    क्या शौचालयों का न होना धरती के साथ-साथ अतंरिक्ष में भी महिलाओं के रास्ते की बाधा रहा है?

    विज्ञान-तकनीक | अंतरिक्ष

    क्या शौचालयों का न होना धरती के साथ-साथ अतंरिक्ष में भी महिलाओं के रास्ते की बाधा रहा है?

    अंजलि मिश्रा | 12 मई 2022

    भारत-चीन युद्ध : जिसके नतीजे ने जवाहरलाल नेहरू की महानता पर अमिट दाग लगा दिया

    समाज | उस साल की बात है

    भारत-चीन युद्ध : जिसके नतीजे ने जवाहरलाल नेहरू की महानता पर अमिट दाग लगा दिया

    अनुराग भारद्वाज | 12 मई 2022

  • हमें वैष्णव जन की प्रतीक्षा है, किसी मसीहा की नहीं

    समाज | कभी-कभार

    हमें वैष्णव जन की प्रतीक्षा है, किसी मसीहा की नहीं

    अशोक वाजपेयी | 08 मई 2022

    मांसाहारी भोजन

    समाज | खान-पान

    जो मांसाहार को अहिंदू और अभारतीय मानते हैं वे इस बारे में कम जानते हैं

    अंजलि मिश्रा | 06 मई 2022

    दुनिया का नक्शा

    समाज | कभी-कभार

    हिंदी कविता में विश्व-दृष्टि क्यों नहीं दिखती?

    अशोक वाजपेयी | 01 मई 2022

    लेखक का इसरार होना चाहिए कि ‘जो स्वतंत्रता मुझे मिली है वह दूसरे सबको मिले’

    समाज | कभी-कभार

    लेखक का इसरार होना चाहिए कि ‘जो स्वतंत्रता मुझे मिली है वह दूसरे सबको मिले’

    अशोक वाजपेयी | 24 अप्रैल 2022